बिहार

सादगी पसंद थे रामविलास, सन्हाैला की सभा में भूख लग गई ताे मंच पर ही मंगाई मूढ़ी व कचरी और सबके साथ मिल कर खाया

भागलपुर35 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • आखिरी बार 2019 के लाेकसभा चुनाव के दाैरान आए थे भागलपुर, पीएम माेदी के साथ साझा किया था मंच

रामविलास पासवान आखिरी बार 2019 के लाेकसभा चुनाव में भागलपुर आए थे। इससे पहले वह 2014 के लाेकसभा चुनाव व 2015 में परिवर्तन रैली में आए थे। 2019 में उन्हाेंने हवाई अड्‌डा मैदान में प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी के साथ मंच भी साझा किया था।

रामविलास के निधन के बाद विभिन्न दलाें के नेताओं ने उनके साथ बिताए क्षणाें काे याद किया है। भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष नभय कुमार चाैधरी ने बताया कि रामविलास सादगी काे पसंद करते थे। 2014 में जब सैयद शाहनवाज हुसैन लाेकसभा चुनाव लड़ रहे थे ताे सन्हाैला में रामविलास पासवान ने सभा की थी।

उस वक्त उनके हेलिकाॅप्टर का ईंधन खत्म हाे गया था। पूर्णिया से ईंधन लाने के लिए गाड़ी भेजी गयी। तब तक शाम हाे गयी। मंच पर हमलाेग गाड़ी के आने का इंतजार कर रहे थे। इस बीच रामविलास पासवान ने कहा-भूख लगी है कुछ मंगवाइए। इसके बाद चूड़ा-मुढ़ी और कचरी मंगवायी गयी और उन्हाेंने बड़े चाव से सबके साथ खाया था।

दबे-कुचलाें की आवाज उठाते थे पासवान : चौबे
रामविलास पासवान के निधन पर केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने संवेदना प्रकट की है। उन्हाेंने कहा कि देश की राजनीति को अपूरणीय क्षति हुई है। मैंने अपना बड़ा भाई खो दिया है। निधन की खबर से स्तब्ध हूं। वह दलितों, दबे-कुचलों और गरीबों की आवाज आजीवन उठाते रहे।

शाहनवाज बोले-अपने बड़े भाई को खाे दिया
पूर्व केंद्रीय मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि हमने अपना बड़ा भाई खाे दिया है। विश्वास ही नहीं हाे रहा है कि अब वह नहीं रहे। भाजपा जिलाध्यक्ष राेहित पांडेय, अभय वर्मन, अर्जित चौबे, अभय कुमार घोष, सज्जन अवस्थी, मधुसूदन झा, अनूप लाल साह, प्रीति शेखर, सुरेंद्र पाठक, प्रदीप जैन, डाॅ. विनय गुप्ता, अनिल पासवान आदि ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है।

Leave a Reply