Dehuti

स्टेशन पर यात्री मास्क लगाते हैं लेकिन सोशल डिस्टेंस नहीं, ट्रेन पर सब दरकिनार

सीवान2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • मरीजों की संख्या कम होते ही लापरवाह हुए शहर और ग्रामीण इलाके के लोग
  • छोटे वाहनों पर भी कोरोना को लेकर जारी गाइडलाइन का नहीं हाे रहा है पालन

जिले के लोग सफर के दौरान कोरोना वायरस के नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। सुखद यह है कि एक माह के अंदर जिले में एक भी मरीज की मौत नहीं हुई है और कोरोना वायरस के मरीज इलाज के लिए आइसोलेशन केन्द्र में भर्ती नहीं हो रहे हैं। लेकिन, इसका यह मतलब नहीं कि गाइडलाइन का पालन नहीं किया जाए। हालांकि मरीजों की संख्या पहले से कम है।

सबसे ज्यादा लापरवाही ट्रेनों में यात्रा के दौरान यात्रियों द्वारा की जा रही है। ट्रेनों में यात्रा के दौरान यात्रियों को हमेशा मास्क पहन कर रहना है। लेकिन, यात्री स्टेशन पर प्रवेश के दौरान ही केवल जांच के दौरान मास्क पहनते हैं। इसके बाद ट्रेन पर सवार होते ही चेहरे से मास्क हटा रहे हैं। इस वजह से ट्रेन में भी कोविड 19 के नियम का पालन नहीं किया जा रहा है। इधर, रेलवे में बिना मास्क पहने यात्रियाें को जुर्माना का प्रावधान नहीं किया गया है। इस वजह से भी यात्री लापरवाही बरत रहे हैं।

255 लोगों में पीएचसी का एक स्वास्थ्यकर्मी पाॅजिटिव
बसंतपुर| बसंतपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर बुधवार को कैंप लगाकर 255 लोगों की जांच की गई। इनमें बसंतपुर पीएचसी के एक स्वास्थ्यकर्मी की रिपोर्ट पाॅजिटिव आयी है। यह जानकारी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी कुमार रविरंजन ने दिया । मौके, हेल्थ मैनेजर बिनोद कुमार सिंह, डाॅक्टर राकेश कुमार सिंह , चंदन कुमार फूलमणि ब्राउज, मौजूद थे। स्वास्थ्यकर्मियों ने तमाम लोगों से सतर्क रहने का आह्वान किया।

24 घंटे के अंदर हुई जांच में 14 लोगों में फिर मिला संक्रमण
24 घंटों के अंदर कोविड-19 जांच में 14 व्यक्ति कोरोना से संक्रमित मिले है। सदर अस्पताल के ट्रु नेट लैब में जांच में एक व्यक्ति कोरोना से संक्रमित मिला है। पटना से आई आरटी पीसीआर जांच रिपोर्ट में सभी व्यक्ति नेगेटिव मिले हैं। बुधवार को 3729 व्यक्तियों की जांच रैपिड एंटीजन किट से इसमें 13 व्यक्ति कोरोना से संक्रमित मिले। इस दौरान 149 सैंपल टू नेट तथा 415 सैंपल आरटी पीसीआर जांच के लिए लिया गया।

बस स्टैंडों पर सेनेटाइजर तक नहीं, चल रही मनमानी
वहीं हाल जिले के चार पहिया वाहनों से यात्रा करने वाले यात्रियों की है। शहर के विभिन्न स्टैंड से खुलने वाली बस व जीप में सवार यात्री भी मास्क नहीं पहन रहे है। लेकिन ऐसे गाड़ी वालों पर भी प्रशासनिक स्तर पर कार्रवाई नहीं हो रही है। बस व जीप में सेनेटाइजर भी नहीं रखा गया है।

जबकि सेनेटोइजर भी रखने का आदेश है। वहीं गाड़ी खुलने से पहले गाड़ी को पूरी तरह से सेनेटाइज करना है। लेकिन किसी भी गाड़ी को सेनेटाइज नहीं किया जा रहा है। जबकि गाड़ी को खाेलने से पहले गाड़ी को सेनेटाइज करना है। ऐसा नहीं करने वालों पर भी कार्रवाई का प्रावधान है। लेकिन इन गाड़ियों पर भी कार्रवाई नहीं हो रही है।

इधर, शहर की सड़कों पर भी सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं हो रहा है। शहर में जिस तरह से भीड़ देखी जा रही है। उससे भी कोरोना वायरस का खतरा बढ़ रहा है। लोगों के बीच जागरुकता की भी कमी आ रही है। कई लोग जागरुक होते हुए भी लापरवाही बरत रहे है।

सिविल सर्जन डॉ. यदुवंश कुमार शर्मा ने कहा कि कोरोना वायरस के मरीज कम मिल रहे है। लेकिन खतरा अभी खत्म नहीं हुआ है। लोगों को कोविड 19 के नियमावली का पालन करना चाहिए। इसके लिए जागरुकता आवश्यक है।

Exit mobile version