Menu

कैसे पता करे केला (Banana) नेचुरल रूप से पका है या केमिकल से पकाया गया है

नीचे 2 केलो (Banana) की तस्वीरें दी हुई इन्हें ध्यान से देखिए, इसमें से एक केमिकल के द्वारा पकाया हुआ है जबकि दूसरा नेचुरली प्राकृतिक तौर पर पका हुआ है

इसे पहचानने का तरीका मैं आपको बताता हूं देखिए जो पहली तस्वीर है जिस पर लिखा हुआ है केमिकल से पकाया हुआ उसका भी रंग पीला है और उसके बगल वाले केले का रंग पीला ही है लेकिन दोनों में एक अंतर यह दिख रहा है कि केमिकल से पकाए केले का डंठल अभी भी हरा है जबकि पूरा केला पका हुआ है केले के दूसरे सिरे की तरफ देखें तो वहां भी हरापन लिए हुए कच्चा है।

Banana Chemically

इसकी वजह होती है कच्चा केला (Banana) खरीदने के बाद व्यापारी इस पर कार्बाइड नाम का एक रसायन (Chemical) लगाते हैं जिस जगह पर लगाया जाता है वहां पर केला पक जाता है, जबकि नेचुरल जो केला पकता है पहले उसका डंठल ही पीला होता है उसके बाद केला पकता है जैसा आप दूसरी तस्वीर में देख रहे हैं

कार्बाइड आपके लिए इतना खतरनाक है केले (Banana) से आपकी सेहत बनने के बजाय बिगड़ सकती है डॉक्टरों का तो यहां तक कहना है कि कार्बाइड लोगों में कैंसर की एक बड़ी वजह बन रहा है तो ध्यान रखें आगे से केले खरीदें तो सिर्फ नेचुरली पका हुआ।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *