Menu

Covid Vaccine Experience : कोरोना वैक्सीन लगने के बाद कैसा महसूस होता है?

कोरोना वैक्सीन अनुभव (Covid Vaccine Experience) सोशल मिडिया पर सभी अपना अपना अनुभव साझा कर रहे है, उन्ही में से भावना जोशी जी का अनुभव साभार हम आपके साथ साझा कर रहे है

ऑस्ट्रेलिया में वैक्सिनेशन (Vaccination) भारत के मुकाबले बहुत पीछे है क्योंकि यहां भारत की तुलना में कम केस रहे हैं। भारत जहां कोरोना वैक्सीन के लिए आत्मनिर्भर है, वहीं ऑस्ट्रेलिया ने वैक्सीन आयात किया है।

यहां 1 लाख 80 हजार यूनिट मंगवाए गए हैं जिसमें से 1 लाख 20 हजार का उपयोग होगा जिन्हें पहले स्वास्थ्य कर्मचारियों ( हैल्थ वर्कर) को लगाया जा रहा है। और वैक्सीनेशन पिछले सप्ताह ही शुरू हुआ है।

60 हजार यूनिट जरूरत के लिए बैकअप में रखी जाएगी। साथ ही दूसरे डोज का ऑर्डर भी दे दिया है।

Covid Vaccine Experience: कोरोना वैक्सीन अनुभव

चूंकि यहां तो हम लोगों का वैक्सिनेशन अभी संभव नहीं है क्योंकि यहां भी सामान्य जनता में पहले 60 साल से ऊपर वालों का नंबर आएगा फिर शायद हम लगवा सकेंगे।

लेकिन भारत में हमारे बेटे, अथर्व ने वैक्सीन (Covid Vaccine) का पहला डोज 2 फरवरी को लगवा लिया है। उसको कोविशील्ड वैक्सीन (Covishield vaccine) लगी है और दूसरा डोज 4 मार्च को लगवाने वाला है। उसका और उसके दोस्त का अनुभव आप लोगों से साझा करती हूं। उससे शायद कुछ लोगों का वैक्सीन के लिए डर दूर करने में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़े: Make Money Online India: घर बैठे मोबाइल से पैसे कैसे कमाये

अथर्व की 18 फरवरी के परीक्षा शुरू होने वाली थी। 2 फरवरी को हमसे बात करते हुए वो कह रहा था कि वो सोच रहा है परीक्षा के पहले वैक्सीन लगवाने का। हमने भी कहा – हां ठीक है, परीक्षा शुरू होने में समय है तो अभी सही समय है।

हमसे बात हुए मुश्किल से पौन घंटा बीता होगा और उसका फोटो आ गया वैक्सीन लगवाते हुए।

Covid Vaccine Experience

हम आश्चर्यचकित रह गए। उसको मैसेज किया। थोड़ी देर में उसका फोन आया कि – मैं पढ़ाई कर रहा था दोस्त ने आकर कहा कि चल वैक्सीन लगवा कर आते हैं तो हम चले गए।

मैं उससे बोली तू तो ऐसे चला गया कि जैसे दोस्त ने चाय पीने जाने का पूछा हो और दोनों चाय पीने चला गए हों.

चूंकि बेटे का सरकारी कॉलेज है और उसी अस्पताल में इन लोगों की ड्यूटी लगती है इसलिए इनके कॉलेज के विद्यार्थियों को पहले से रजिस्ट्रेशन करवाने की जरूरत नहीं थी। वहां पहुंच कर फॉर्म भरकर थोड़ी फॉर्मेलिटी पूरी करके सीधे ही वैक्सीन लगवा सकते थे।

उसने हमको बता दिया था कि — उसको शायद थोड़ा बुखार आ सकता है या थोड़ी कमजोरी लग सकती है लेकिन आप लोग चिंता मत करना, मैं देख लूंगा।

कोरोना वैक्सीन अनुभव (Covid Vaccine Experience): वैक्सीन लेने के बाद शाम को हल्का बुखार आया, शरीर में हल्का दर्द था। उसने पेरासिटामोल दवाई ली। इसके अलावा कोई साइड इफेक्ट नहीं रहे। एक दिन आराम करने के बाद उसकी तबीयत ठीक हो गई थी। लेकिन उसके अन्य दोस्त ने परीक्षा के पांच दिन पहले लिया। कुछ लोगों को शुरुवात में थोड़े अलग लक्षण दिखते हैं, जिनको पहले एलर्जिक रिएक्शन रहा हो या कमजोरी रही हो, वैसा ही उस बच्चे के साथ हुआ। शाम को अचानक उसकी तबीयत खराब होने लगी। बुखार आने लगा। बेटा उसको लेकर अस्पताल गया। उसका ब्लड प्रेशर अचानक बहुत कम हो गया था। डॉक्टर ने कह दिया था कि घबराने की जरूरत नहीं है, सब ठीक हो जाएगा। रात भर वहां भर्ती रहा और दूसरे दिन अपने कमरे में आकर आराम किया और फिर ठीक हो गया।

यह भी पढ़े: KotaDoriaSilk: 25 हजार से 4 करोड़ तक का सफर, आज कमा रही है बड़ा मुनाफा

कहने का मतलब यह है कि जिस तरह सभी दवाईयों का असर सबके शरीर पर अलग अलग होता है और हमारा शरीर अलग अलग तरह से प्रतिक्रिया दिखाता है यानि रिस्पॉन्ड करता है। किसी का जल्दी करता है किसी का शरीर कुछ समय लेकर असर दिखाता है। उसी प्रकार कोरोना की दवाई का असर भी (Covid Vaccine Experience) शारीरिक बनावट, प्रतिरोधक क्षमता पर निर्भर करता है। लेकिन इतना हम सभी जानते हैं कि यह दवाई जीवन रक्षक दवाई है जिसका शरीर पर प्रतिकूल या हानिकारक प्रभाव नहीं पड़ेगा। शायद शुरू में हल्का प्रभाव( रिएक्शन) दिखे लेकिन यह लक्षण कुछ समय के लिए होते हैं फिर शरीर दवाई के अनुकूल सेट हो जाता है। और हम कोरोना जैसी भयानक बीमारी से लगभग 70-75% तक बचाव की स्थिति में आ जाते हैं।

इसलिए कोरोना की वैक्सीन लेने से डरने की जरूरत नहीं। वैक्सीन लगवाने के लिए रजिस्ट्रेशन करवा कर वैक्सीन लगवा कर सुरक्षित हो जाएं।

हम सभी भारतवासियों को गर्व है कि हमारा देश कोरोना वैक्सीन के मामले में केवल आत्मनिर्भर ही नही बना बल्कि अन्य देशों को कोरोना की वैक्सीन मुफ्त दे कर मानवता का धर्म का पालन भी करते हुए भारत के वसुधैव कुटुंबकम् वाले मंत्र का पालन कर रहा है.

आप भी अपना Covid Vaccine Experience हमें कमेंट में साझा कर सकते है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *