Remove term: cranberry photos cranberry photos

Cranberry In Hindi: फलों का नाम आते ही लोगों के मुँह में पानी आ जाता है। यूं तो दुनिया में कई तरह के फल मौजूद हैं जैसे सेब, केला, आम, पपीता, अनार, अंगूर ये कुछ ज्यादा बिकने वाले फल हैं जिनके बारे में सभी कोई जानते है लेकिन आज हम आपसे जिस फल की चर्चा करने वाले हैं उसका नाम आप ने शायद ही कभी सुना हो। जी हाँ हम जिस फल की बात कर रहे हैं उसका नाम है क्रैनबेरी (Cranberry)। दरअसल यह एक विदेशी फल जो हर देश में आसानी से नहीं मिलता है परन्तु यह खाने में बड़ा ही स्वादिष्ट होता है। यही कारण है कि इस फल कि ख्याति दुनिया में तेजी से फैल रही है। क्रैनबेरी (Cranberry) दिखने में भी बड़ी लाजवाब होती हैं। अब जितना लाजवाब ये फल है उतने ही लाजवाब इसे खाने के फायदे भी हैं।

यदि आपने क्रैनबेरी (Cranberry) को अब तक नहीं खाया है तो हमारा इस लेख को जरूर पढ़िए। ऐसा हम इसलिए कह रहे है क्यूंकि इसमें बताये गए क्रैनबेरी के फायदों (cranberry benefits) को जानने के बाद यकीनन आप भी इस सुपर फ्रूट को अपनी डाइट में शामिल जरूर करना चाहेंगे। तो चलिए पहले आपको क्रैनबेरी के स्वरुप ( Cranberry In Hindi ) और इसकी विशेषताओं से परिचित करवाते हैं फिर आपको इसके फायदों ( cranberry benefits ) से भी रूबरू करवाएंगे।

क्रैनबेरी क्या है | What is Cranberry In Hindi

क्रैनबेरी (Cranberry) एक प्रकार का फल होता है यह फल पहले पूर्वी अमेरिका के जंगलों में ही पाया जाता था लेकिन अब इसकी खेती कई क्षेत्रों में होने लगी है। Cranberry कुछ-कुछ करौंदा के जैसी दिखती हैं लेकिन यह भारत में मिलने वाले करोंदे नहीं है। क्रैनबेरी (Cranberry) विदेशी फल है, जबकि करोंदा स्वदेशी फल है जिसकी खेती भारत में कई युगों से की जा रही है।

एक जैसा दिखने के कारण कुछ लोग इसे करौंदा समझने की गलती कर देते हैं। परन्तु हम आपको बताना चाहते है कि क्रैनबेरी (Cranberry) Ericaceae परिवार के पौधे में उगती हैं जबकि करोंदे Apocynaceae परिवार का हिस्सा हैं। इतना ही नहीं क्रैनबेरी (Cranberry) का वैज्ञानिक नाम Vaccinium Subg. Oxycoccus है जबकि करौंदा का वैज्ञानिक नाम Carissa Carandas है। क्रैनबेरी (Cranberry) के पके हुए फलों का स्वाद खट्टा एवं हल्का मीठा होता है जो खाने में बेहद स्वादिष्ट लगता है।

कैसा होता है क्रैनबेरी का पौधा | How Did Cranberry Plant Look Like

cranberry photos 1

क्रैनबेरी (Cranberry) का पौधा झाड़ीनुमा कांटेदार होता है इसलिए कई जगह इसका उपयोग खेतों के चारो ओर बागड़ के रूप में किया जाते है। क्रैनबेरी (Cranberry) का पौधा Ericaceae कुल के अंतर्गत आता है, इस पौधे की ऊंचाई 6 से 7 फीट तक होती है। क्रैनबेरी के पौधे में सफेद रंग के फूल लगते हैं जिनमें एक अलग ही खुशबू आती है। क्रैनबेरी के पौधे में अंडाकार फल लगते हैं जो गहरे लाल रंग के होते हैं।

क्रैनबेरी की विशेषताएं | Qualities Of Cranberry In Hindi

क्रैनबेरी (Cranberry) की कई विशेषताएं हैं। इनमे से कुछ विशेषताएं नीचे बताई गई हैं।

1. क्रैनबेरी के फल का स्वाद मीठा और खट्टा होता है।
2. क्रैनबेरी की तासीर गर्म होती है।
3. क्रैनबेरी के छोटे और गोलाकार फल होते हैं जिनका रंग लाली युक्त होता है लेकिन पकने के बाद इनका रंग लाल, गुलाबी और काला हो जाता है।
4. क्रैनबेरी के कच्चे फलों में दूध जैसा सफेद पदार्थ निकलता है।
5. क्रैनबेरी के फलों में लौह तत्व और विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।
6. क्रैनबेरी फल भूख को बढ़ता है।
7. क्रैनबेरी की जड़ कृमिनाशक होती है।
8. क्रैनबेरी की छाल कड़वी और गर्म होती है जो कफ, वात और शरीर की सामान्य दूर्बलता को दूर करती है।

क्रैनबेरी में पाए जाने वाले पोषक तत्व | Nutrients Of Cranberry In Hindi

dried cranberry

क्रैनबेरी के इस छोटे से फल में इतने सारे विटामिन प्रोटीन और दूसरे तत्व पाए जाते हैं कि इनके बारे में आप सुनकर हैरान हो जायेगें। बता दें कि क्रैनबेरी में Vitamin C, Vitamin E, Vitamin A, Vitamin D, Vitamin K, Vitamin B6 और Vitamin B-12, Pantothenic Acid (पेन्टोथेनिक अम्ल), Pantothenic Acid (पेन्टोथेनिक अम्ल), Thiamine (थायमिन), Niacin (नाइयासिन) आदि विटामिन मुख्य रूप से पाए जाते हैं।

Also Read:

यदि क्रैनबेरी (Cranberry) में पाए जाने वाले मिनरल्स की बात करें तो इसमें जिंक, मैग्नीशियम, सोडियम, पोटैशियम, फास्फोरस, मैगनीज, कॉपर, सेलेनियम, आयरन आदि तत्व पाए जाते हैं। इतना ही नहीं क्रैनबेरी (Cranberry) में फाइबर, ऊर्जा और कार्बोहाइड्रेट जैसे और भी महत्वपूर्ण पोषक उचित मात्रा में पाए जाते हैं। तो है ना क्रैनबेरी (Cranberry) पोषक तत्वों की खान यही वजह है कि क्रैनबेरी के स्वास्थ्य सम्बन्धी कई फायदे हैं।

क्रैनबेरी (Cranberry) के फायदे | Benefits of Cranberry In Hindi

cranberry benefits

अन्य फलों और सब्जियों की तुलना में क्रैनबेरी (Cranberry) में जो विटामिन्स, मिनरल्स एवं खनिज तत्व पाए जाते हैं वह काफी अधिक मात्रा में होते हैं इसलिए क्रैनबेरी (Cranberry) को पोषक तत्वों का पावरहाउस कहा जाता है। क्रैनबेरी (Cranberry) में पाए जाने वाले पोषक तत्वों की वजह से ही यह कई तरह की बिमारियों में फायदेमंद हैं।

क्रैनबेरी कौन-कौन से रोगों को दूर कर सकती है जानना चाहते हैं, तो आइये आपको बताते हैं क्रैनबेरी के फायदे :-

1. इम्युनिटी सिस्टम को बढ़ाना है तो खाएं क्रैनबेरी
इम्युनिटी सिस्टम या रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए अक्सर लोग अनेक प्रकार की दवाइयों का सेवन करते हैं। आपको बता दें कि आप दवाइयों का सेवन किये बिना भी अपनी इम्युनिटी को बड़ा सकते हैं। रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए क्रैनबेरी का उपयोग बेहद ही लाभकारी माना जाता है। क्रैनबेरी में मुख्य रूप से विटामिन सी, एंटीऑक्सीडेंट और फाइटोकेमिकल्स के गुण पाए जाते हैं जो शरीर के इम्यून पावर को बढ़ाने में मदद करते हैं।

2. किडनी को स्वस्थ बनाये क्रैनबेरी
अक्सर देखने में आता है कि किडनी कई तरह के रोगों से ग्रस्त हो जाती है जैसे कि क्रोनिक किडनी, फेल्योर रोग, किडनी में सूजन आना, किडनी में पानी भर जाना, किडनी में पथरी का बनना आदि। किडनी से सबंधित कई गंभीर रोग तो ऐसे होते हैं जो किडनी को पूर्ण तरीके से नष्ट भी कर सकते हैं इसलिए किडनी को स्वस्थ रखना बेहद आवश्यक है। क्रैनबेरी में Anthocyanidins and anthocyanins तत्व पाए जाते हैं जो कि किडनी को कई तरह के संक्रमण से बचाकर स्वस्थ बनाते हैं। किडनी को स्वस्थ बनाये रखने के लिए प्रतिदिन क्रैनबेरी के जूस का सेवन करना फायदेमंद होता है।

3. मूत्र संक्रमण में क्रैनबेरी है फायदेमंद औषधि
शरीर में मूत्र संक्रमण या यूरिन इन्फेक्शन कई कारणों से हो जाता हैं। यदि इसका समय पर सही इलाज नहीं किया जाता तो यह गंभीर समस्या बन जाती है। यदि आपको किसी भी तरह का यूरिन इन्फेक्शन है तो आप क्रैनबेरी के जूस का इस्तेमाल कर सकते हैं। बता दें कि cranberry में Flavonoid और प्रोएथोकेनिडिन गुण पाए जाते हैं जो यूरिन में संक्रमण फैलाने वाले बैक्टीरियाओं को कम करते हैं। अतः मूत्र संक्रमण को रोकने के लिए क्रैनबेरी का जूस या क्रैनबेरी कैप्सूल का उपयोग करना लाभकारी होता है।

4. अतरिक्त चर्बी से निजात दिलाये क्रैनबेरी
अत्यधिक वसा (Fat) और कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) की वजह से शरीर का वजन और चर्बी बढ़ जाती है, जिसकी वजह से मनुष्य की छवि तो खराब होती ही है साथ में वह कई तरह के रोगों से भी पीड़ित हो जाता है। वजन को कम करने के लिए मनुष्य कई प्रकार के उपाय करता है लेकिन फिर भी वह अपने वजन को कम नहीं कर पाता है। बता दें कि क्रैनबेरी का सेवन आपके लिए एक सरल और आसान उपाय है जिसकी मदद से आप आसानी से वजन को कम सकते हैं। दलअसल क्रैनबेरी में काफी मात्रा में फाइबर होता है जो वजन कम करने का मुख्य अवयव है इसके आलावा क्रैनबेरी में कोलस्ट्रोल नहीं पाया जाता है जिसकी वजह से वजन आसानी कम हो जाता है। क्रैनबेरी जूस (cranberry juice) का सेवन करने से शरीर के अंदर से अतरिक्त फैट निकल जाता है जिससे वजन भी कम हो जाता है।

5. क्रैनबेरी बढ़ाए बालों की ग्रोथ
प्रोटीन और विटामिन्स की कमी एवं शरीर में कमजोरी की वजह से बाल टूटने और झड़ने लगते हैं, जिसकी वजह से धीरे-धीरे बालों की ग्रोथ का बढ़ना भी कम हो जाता है। बालों को लम्बा और घना बनाने के लिए पोषण तत्वों की जरुरत होती है। क्रैनबेरी में विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन ई एवं प्रोटीन जैसे तत्व भरपूर मात्रा में पाये जाते हैं जो बालों को पोषण प्रदान करते हैं। अतः कहा जा सकता है कि क्रैनबेरी में स्वस्थ बालों के राज छिपे हैं।

6. ट्यूमर रोग से राहत दिलाये क्रैनबेरी
क्रैनबेरी ट्यूमर को बढ़ाने वाली कोशिकओं को नष्ट करने में मदद करता है। ट्यूमर का विकास करने वाली कार्सिनोजेनिक (Carcinogenic) और फ्री रेडिकल्‍स कोशिकाओं (Free radicals cells) के विकास को क्रैनबेरी रोक देती है। अतः नित्य क्रैनबेरी के जूस का सेवन करने से कई तरह के होने वाले कैंसर को रोका जा सकता है।

7. याददाश्त बढ़ाना है तो खाएं क्रैनबेरी
भूलने की बीमारी केवल बुजुर्ग व्यक्तियों में ही नहीं देखी जाती है अपितु यह समस्या हर वर्ग के व्यक्तियों में देखने को मिल जाती है। भूलने की समस्या को याददाश्त का कमजोर होना भी कहा जाता है। यदि आपकी भी याददाश्त कमजोर है तो आप क्रैनबेरी का इस्तेमाल कर सकते हैं। क्रैनबेरी में एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidant), विटामिन ई और प्रोटीन जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं जो याददाश्त को बढ़ाने में मदद करते हैं।

8. क्रैनबेरी से ह्रदय को स्वस्थ बनायें
क्रैनबेरी ह्रदय को स्वस्थ बनाने में अहम भूमिका निभाती है। क्रैनबेरी में पॉली फेनोलिक तत्व (Polyphenolic compounds) होता हैं जो रक्त में अच्छे कोलेस्ट्रॉल (HDL) की मात्रा को सामान्य बनाये रखता है जिसकी वजह से ह्रदय स्वस्थ रहता है। बता दें की ह्रदय को बिमारियों से ग्रस्त करने में सबसे अहम भूमिका बड़े हुए कोलस्ट्रोल की होती है इसलिए ह्रदय को स्वस्थ रखने के लिए शरीर में कोलस्ट्रोल की मात्रा सामान्य होनी चाहिए। अतः कहा जा सकता हैं कि क्रैनबेरी का जूस (cranberry juice) कोलस्ट्रोल को कम कर ह्रदय को स्वस्थ बनाता है।

9. कैंसर से बचाये क्रैनबेरी
क्रैनबेरी एक नहीं बल्कि कई तरह के कैंसर जैसे प्रोस्‍टेट कैंसर, स्तन कैंसर, पेट का कैंसर होने से रोकता है। दरअसल क्रैनबेरी में एंटीऑक्सीडेटिव और पॉलीफेनॉल्स तत्व पाए जाते हैं जो कैंसर सेल के विकास को रोकने में मदद करते हैं। इसके अतरिक्त cranberry कार्सिजोजेनिक और फ्री रेडिकल्‍स कोशिकाओं को फैलने से रोकती है बता दें कि कोशिकायें भी कई तरह के कैंसर को उत्पन करती हैं। क्रैनबेरी जूस के सेवन से आप कैंसर रोग से बच सकते हैं।

10. क्रैनबेरी से बनाये त्वचा को खूबसूरत
त्वचा को जवान और खूबसूरत बनाये रखने के लिए जरुरी पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है जिससे त्वचा को पोषण मिल सके। बता दें कि क्रैनबेरी में विटामिन सी, विटामिन ई, विटामिन डी, प्रोटीन और एंटीऑक्सीडेंट जैसे तत्व पाए जाते हैं जो त्वचा को पोषण प्रदान कर डिहाइड्रेट होने से बचाते हैं क्योंकि क्रैनबेरी में लगभग 87% पानी की मात्रा पाई जाती है जो स्वस्थ और खूबसूरत त्वचा के लिए बेहद जरुरी होता है।

क्रैनबेरी के अन्य फायदे | Some Other Benefits Of Cranberry In Hindi

cranberry online

1. क्रैनबेरी में कैल्शियम और विटामिन डी पाया जाता है जो कमजोर हड्डियों को मजबूत बनाता है।
2. क्रैनबेरी में विटामिन ई पाया जाता है। अतः क्रैनबेरी के जूस के सेवन से आँखों की रोशनी बढ़ती है।
3. क्रैनबेरी में एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन सी, विटामिन डी जैसे महत्वपूर्ण तत्व प्रचुर मात्रा में पाये जाते हैं जो दाँतों और मसूड़ों को सवस्थ बनाने के आलावा मुंह की दुर्गन्ध को भी ठीक करने में फायदेमंद होते हैं।
4. क्रैनबेरी में आयरन पाया जाता है जो शरीर में खून की कमी को दूर करता है।
5. क्रैनबेरी का जूस रक्तचाप के स्तर को कम करता है जो मधुमेह रोग में फायदेमंद होता है।

क्रैनबेरी का उपयोग | How to use Cranberry in Hindi

क्रैनबेरी का उपयोग कई प्रकार से किया जाता है। यदि आप इसका उपयोग करना नहीं जानते हैं तो हम आपको बताते हैं कि क्रैनबेरी का उपयोग कैसे कैसे किया जा सकता है:

cranberry juice

1. क्रैनबेरी के पके हुए फलों का उपयोग सब्जी के रूप में कर सकते हैं।

2. क्रैनबेरी का उपयोग चटनी बनाकर किया जा सकता है।
3. क्रैनबेरी के पके हुए फलों को सुखाकर उनका चूर्ण बनाकर भी आप उपयोग कर सकते हैं।
4. क्रैनबेरी का उपयोग जैम, जैली, सूप, सॉस के रूप में कर सकते हैं।
5. क्रैनबेरी के फलों का इस्तेमाल आप डारेक्ट खाने के रूप में भी कर सकते हैं।
6. क्रैनबेरी के फलों का जूस बनाकर उपयोग कर सकते हैं। बता दें कि क्रैनबेरी का जूस क्रैनबेरी के अन्य उपयोगों की तुलना में सेहत के लिए अधिक लाभकारी होता है।

 

क्रैनबेरी से होने वाले नुकसान | Side Effects of Cranberry In Hindi

जिस चीज के खाने से फायदे होते हैं तो उसके कुछ ना कुछ नुकसान भी होते हैं लेकिन क्रैनबेरी की बात करें तो इसके फायदों की अपेक्षा नुकसान बहुत कम है। हमारे बड़े बुजुर्गों ने कहा है कि किसी भी नई चीज का उपयोग करने से पहले उससे होने वाले फायदे और नुकसान की पूरी जानकारी होना चाहिए। दोस्तों फायदे तो हमने समझ लिए हैं इसलिए आइये अब क्रैनबेरी से होने वाले नुकसान भी समझ लेते हैं

1. क्रैनबेरी का सेवन गर्भवती महिलाओं को नहीं करना चाहिए।
2. स्तनपान कराने वाली महिलाओं को क्रैनबेरी का सेवन करना नुकसानदायक हो सकता है।
3. क्रैनबेरी का अधिक मात्रा में सेवन करने से ब्लड शुगर बढ़ सकती है। इसलिए डायबिटीज के मरीजों को क्रैनबेरी का सेवन बहुत कम मात्रा में ही करना चाहिए।
4. क्रैनबेरी दांतो को जहाँ स्वस्थ बनाता है वही इसका अत्यधिक सेवन दांतो को खराब भी कर सकता है।
5. जिन लोगों को किसी भी तरह की एलर्जी हो उन लोगों को क्रैनबेरी का सेवन नहीं करना चाहिए।

तो मित्रो ये थी क्रैनबेरी (Cranberry in hindi) से जुड़ी कुछ जानकारी। हम आशा करते हैं कि आप क्रैनबेरी के समस्त फायदे और नुकसानों से परिचित हो गए होंगे। अगर आपको हमारी यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के बीच शेयर जरूर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें।

 

2 thoughts on “Cranberry In Hindi: Cranberry क्या है? जानिए क्रैनबेरी के फायदे और नुकसान”
  1. Digital Marketing In Hindi : जानिए यह क्या हैं और इसे कैसे करें - says:

    […] […]

  2. how to make carrot juice in mixer grinder - घर पर गाजर का रस कैसे निकाले - says:

    […] […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *