C:\Users\hitendra.tiwari\Downloads

हमारे गांव में इसे डेहरी (Grain Storage Container) कहा जाता था मेरे खुद के घर में एक काफी बड़ी डेहरी हुआ करती थी हालांकि बाद में जब लोहे की डेहरी आ गई तब मिट्टी की डेहरी को तोड़कर वहां लोहे की डेहरी रख दी गई

मेरे ननिहाल में कम से कम 15 से 20 डेहरी हुआ करती थी

सोचिए उस वक्त हम भारतीय पर्यावरण के प्रति कितने जागरूक हुआ करते थे…

यह डेहरी (Grain Storage Container) मिट्टी और भूसा डालकर बनाई जाती थी और सबसे अच्छी बात यह है कि इसे बनाने में आसपास की महिलाएं मदद करती थी सभी महिलाएं एक-दूसरे के घर डेहरी बनाने में मदद करती थी.

Also Read:

इसे कई खंडों में बनाया जाता था और इसे बनाने की प्रक्रिया भी काफी मेहनत वाली होती थी.

सबसे पहले तालाब से चिकनी मिट्टी लाकर उसे पानी में भीगाया जाता था फिर उसमें भूसा मिलाकर और उसे अलग-अलग खंडों में डेहरी (Grain Storage Container) बनाई जाती थी और मैं बचपन में ही यह देख कर चौक गया था कि गांव की अनपढ़ महिलाएं भी टेक्नोलॉजिकल कितनी जानकार होती थी क्योंकि एक खंड बनने के बाद जब उसके ऊपर दूसरा खंड रखना होता था तब उसके पहले ही वह एक खंड के एक तरफ खाचा और दूसरे खंड के तरफ उभार बना देती थी ताकि एक खंड के ऊपर दूसरा खंड अच्छे से फिट हो जाए उसके बाद मिट्टी का गाढ़ा लेप लगाकर जोड़ को सील कर दिया जाता था

जब डेहरी बन जाती थी तब वहां अगरबत्ती जलाकर पूजा होती थी और गुड़ बांटा जाता था

इस डेहरी (Grain Storage Container) में एक ऊपर बड़ा सा छेद होता था जिसके द्वारा अनाज इसमें भरा जाता था और इसमें नीचे भी एक छेद हुआ करता था जिसके द्वारा अनाज बाहर निकाला जाता था इसमें अनाज भरने के बाद मिट्टी के एक गोल हिस्से से इसे अच्छी तरह से सील कर दिया जाता था ताकि इसके अंदर बिल्कुल भी हवा या नमी न जाने पाए

गांव की कई महिलाएं इस डेहरी (Grain Storage Container) में अपनी कीमती चीजें भी छुपा कर रखती थी इस मिट्टी की डेहरी (Grain Storage Container) में रखा अनाज कभी भी खराब नहीं होता था

सोचिए मात्र 30 या 40 साल पहले ही हम भारतीय अपने पर्यावरण के प्रति कितने जागरूक हुआ करते थे और कितनी अच्छी बायोडिग्रेडेबल चीजें बनाया करते थे

लेकिन अब आपको भारत के गांव में मिट्टी की डेहरी (Grain Storage Container) नजर नहीं आएगी

8 thoughts on “डेहरी: देहात का Grain Storage Container”
  1. डेहरी में है डेढ़ सौ वर्ष पुरानी धूप घड़ी, आज भी बताती है समय - सफलता की कहानी says:

    […] डेहरी: देहात का Grain Storage Container […]

  2. Himalaya Confido Tablets : फायदे और नुकसान - सफलता की कहानी says:

    […] डेहरी: देहात का Grain Storage Container […]

  3. मखाना के फायदे और नुकसान – All About Makhana in Hindi - सफलता की कहानी says:

    […] डेहरी: देहात का Grain Storage Container […]

  4. Chilgoza Khane Ke Fayde: चिलगोज़ा के फायदे - सफलता की कहानी says:

    […] डेहरी: देहात का Grain Storage Container […]

  5. रोज़ाना चाय (Tea) में आएगा दोगुना स्वाद अगर अपनाएंगे ये ट्रिक्स - सफलता की कहानी says:

    […] डेहरी: देहात का Grain Storage Container […]

  6. Raksha Bandhan 2021: कब है रक्षा बंधन? जानिए शुभ मुहूर्त - सफलता की कहानी says:

    […] डेहरी: देहात का Grain Storage Container […]

  7. Gujari Mahal: जब ग्वालियर के राजा को भा गई थी ग्वालिन - सफलता की कहानी says:

    […] डेहरी: देहात का Grain Storage Container […]

  8. IPS Navniet Sekera का मार्मिक पोस्ट - एक जज अपनी पत्नी को क्यों दे रहे हैं तलाक? - सफलता की कहानी says:

    […] डेहरी: देहात का Grain Storage Container […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Exit mobile version