Gobar Rajya

बिलासपुर, 23 जून 2021- बिलासपुर हाईकोर्ट में कल उस समय राज्य सरकार की फजीहत हो गई जब कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश जस्टिस प्रशांत मिश्रा ने बहुत ही तल्ख टिप्पणी कर डाली कि छत्तीसगढ़ में कोई स्मार्ट सिटी नहीं है, पूरा राज्य गोबर राज्य है। जस्टिस मिश्रा ने यह कड़ी टिप्पणी एम.एम.पी.वाटर स्पोर्ट्स बनाम छत्तीसगढ़ पर्यटन बोर्ड की याचिका की सुनवाई करते हुए की है।

Vivekanand sarovar Raipur

दरअसल स्वामी विवेकानंद सरोवर बूढा तालाब रायपुर में वाटर स्पोर्ट्स के दोबारा टेंडर करने को लेकर एम.एम.पी.वाटर स्पोर्ट्स द्वारा बिलासपुर हाईकोर्ट में याचिका लगाई गई है। याचिका में छत्तीसगढ़ पर्यटन बोर्ड के अलावा रायपुर नगर निगम और रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड को भी पक्षकार बनाया गया था।

यह भी पढ़े: Wish You Many Many Happy Returns of the Day Meaning in Hindi

बूढ़ा तालाब रायपुर में वाटर स्पोर्ट्स का टेंडर पूर्व में एम.एम.पी.वाटर स्पोर्ट्स को दिया गया था, लेकिन कतिपय आधारों पर बाद में इसका दोबारा टेंडर निकाले जाने पर एम.एम.पी.वाटर स्पोर्ट्स ने हाईकोर्ट बिलासपुर में याचिका लगाई गई थी, जिस पर मंगलवार को सुनवाई हुई। मामले में स्मार्ट सिटी रायपुर, नगर निगम रायपुर और एम.एम.पी.वाटर स्पोर्ट्स से जुड़े तथ्यों पर बहस के दौरान जस्टिस प्रशांत मिश्रा ने यह टिप्पणी की, कि यहाॅं कोई स्मार्ट सिटी नहीं है, पूरा राज्य गोबर राज्य है।

यह भी पढ़े: पराजय: हेडमास्टर से हार गया डिप्टी कलेक्टर

अब तक राज्य बनने के बाद यह पहला मौका होगा, जब हाईकोर्ट ने ऐसी गंभीर टिप्पणी की हो। वर्तमान प्रदेश सरकार जहा एक तरफ गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ के नारे लगा रही है, गोबर विक्रय योजना के बड़े बड़े विज्ञापन दे रही है, वही दूसरी तरफ जो 15 साल सत्ता से दूर रहने के बाद सत्ता में वापिस आई है उस पर गोबर राज्य की टिप्पणी वाकई बहुत बड़ी शर्मिंदगी का विषय बन गया है, इस टिप्पणी के बाद वर्तमान सरकार की सोशल मिडिया सहित सभी तरफ बुरी तरह किरकिरी होना तय है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *